Monday, May 2, 2011

सांप का ज़हर पानी निकला

आज शाम 
ठीक ७:३० बजे 
निकला जब 
कालेज भवन से 
और चल रहा था 
खोये हुए मन से 
सहम कर रुक गया अचानक 
सड़क पर रेंगते हुए एक 
सांप को देखकर 
और वह भी 
डर गया था मेरे कदमों की आहट से 
अवश्य वह मुझसे पहले डरा होगा 
भई मैं आदमी जो हूँ 
मेरे रुकने पर वह भागने लगा 
पर आदमी से कौन बच सकता है भला ?
वहीं कुचल डाला मैंने उसे 
सोचा बड़ा ज़हरीला है 
किन्तु मेरे 
भय और क्रोध के आगे 
उस सांप का ज़हर पानी निकला /

तुम्हारी खुशियों की आज़ादी चाहता हूँ

तुम्हारी बेरुखी से 
शिकवा नहीं मुझे 
तुम्हारे मायूस चेहरे से
गमज़दा हूँ मैं /
कोई चाहत नहीं 
कि मिले मुझे 
तुम्हारी मुहब्बत में पनाह 
सिर्फ मैं 
तुम्हारी खुशियों की
आज़ादी चाहता हूँ 
गम की कैद से /

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...